पटना विवि के एम.एड. एंट्रेंस टेस्ट में 9 अभ्यर्थी क्वालीफाई

पटना । पटना वि. वि. के एम.एड. एंट्रेंस टेस्ट-2017 में केवल 9 अभ्यर्थी क्वालीफाई किया है. यह टेस्ट 100 अंकों का था. इसमें बहुविकल्पीय कुल 100 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे गये थे. इस टेस्ट को क्वालीफाई करने के लिए न्यूनतम 50 अंक लाना अनिवार्य शर्त था. साथ ही निगेटिव मार्किंग का भी प्रावधान था. इस प्रावधान के तहत प्रत्येक तीन गलत उत्तर देने पर एक अंक काट लिए जाने का प्रावधान था. विश्वविद्यालयी सूत्रों के अनुसार इस टेस्ट में केवल 7 अभ्यर्थी ही न्यूनतम निर्धारित अंक 50 या उससे अंक हासिल कर सके. यानी इस बार एम.एड. प्रोग्राम की 41 सीटें रिक्त रह जाएगी. बताते चलें कि वर्ष 2016 में 50 एसीटों पर नामांकन के लिए आयोजित एम.एड. एंट्रेंस टेस्ट  में केवल 6 अभ्यर्थी ही क्वालीफाई कर पाए थे. यानी 44 सीटें रिक्त रह गई थी.  हालाँकि 2016 में एम.एड. प्रोग्राम में एक भी अभ्यर्थी का नामांकन नहीं हो सका था. एम.एड. एंट्रेंस टेस्ट रिजल्ट के लिए पटना वि.वि. के अधिकारिक वेबसाइट http://www.patnauniversity.ac.in विजिट करें.

अब 2016 व 2017 की रिक्त सीटों के लिए पुन: आयोजित होगा एंट्रेंस टेस्ट

पटना विवि के एम.एड प्रोग्राम में नामांकन के लिए  वर्ष 2016 की रिक्त 44 एवं 2017 की 41 सीटों के लिए अगस्त महीने में ही दुबारा एंट्रेस टेस्ट आयोजित किया जायेगा. सूत्रों के मुताबिक एंट्रेंस टेस्ट की तिथियों की घोषणा जल्द कर दी जायेगी. इसमें उन्हीं अभ्यर्थियों को शामिल होने का दुबारा मौका दिया जायेगा जिन्होंने एंट्रेंस टेस्ट के लिए फॉर्म भरा हो. इसके लिए अलग से कोई आवेदन आमंत्रित नहीं किये जायेंगे. केवल पहले के आवेदकों को  परीक्षा से पहले दुबारा अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड करना होगा. नये एडमिट कार्ड पर ही वे दोबारा टेस्ट में शामिल हो सकेंगे. इस बार निगेटिव मार्किंग को हटाकर मूल्यांकन करवाए जाने के मुद्दे पर भी विचार विमर्श चल रहा है.




One thought on “पटना विवि के एम.एड. एंट्रेंस टेस्ट में 9 अभ्यर्थी क्वालीफाई

  1. आलोक कुमार झा

    ये पटना यूनिवर्सिटी हैं
    कभी एग्जाम में सेटर की अपवाह फैलती है तो कभी जीरो सेसनन की दोनों ही परिस्थितियों में विद्यार्थियों के जीवन से खेल होता हैं
    जो आचार्य लोग हैं वो तो इस विषय पर सामने आये
    मुफ़्त में रोटी उन्हें मिल रही हैं वहीं विद्यार्थियों को नहीं
    इन्हें तो छोटी से बात पे भी छाँट दिया जाता है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *