एकात्म मानववाद दर्शन आत्मसात कर करें अखंड भारत का निर्माण

पं. दीनदयाल उपाध्याय के चित्र पर माल्यार्पण करते जेपी विवि के कुलपति प्रो.हरिकेश सिंह एवं डॉ. सुधाकर प्रसाद सिंह

पटना । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय बौद्धिक प्रमुख स्वांत रंजन ने कहा है कि एकात्म मानववाद दर्शन को आत्मसात कर अखंड भारत का निर्माण किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि एकात्म मानववाद का दर्शन व्यष्टि, समष्टि और सृष्टि का समन्वय है. उन्होंने कहा कि एकात्म मानववाद में व्यक्ति से परिवार, परिवार से समाज, समाज से राष्ट्र और फिर मानवता और चराचर सृष्टि का विचार किया गया. पं. दीनदयाल उपाध्याय ने मानव, समाज और प्रकृति व उसके संबंधों समग्र रूप से देखा. वे आज पटना ट्रेनिंग कॉलेज सभागार में “पंडित दीनदयाल उपाध्याय और एकात्म मानववाद” विषयक एक दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे. सेमिनार का आयोजन पटना वि वि का शिक्षा संकाय ने किया था.

पंडित दीनदयाल उपाध्याय और एकात्म मानववाद सेमिनार का उद्घाटन करते अतिथि

इससे पहले पटना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रासबिहारी प्रसाद सिंह ने दीप प्रज्ज्वलित कर सेमिनार का उद्घाटन किया. जयप्रकाश वि वि के कुलपति प्रो. हरिकेश सिंह ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय ने  एकात्म मानववाद के अलावा अन्त्योदय का दर्शन दिया. समाज  के अंतिम व्यक्ति के उदय की वकालत की.  उन्होंने कहा कि पं. उपाध्याय चित्त, चेतना और राष्ट्रवाद के दार्शनिक थे. उन्होंने लोगों में चेतना जागृत  करने का कार्य किया. उन्होंने शोषण विहीन समाज, विश्व मानवताऔर स्वदेशी स्वावलंबन विकसित करने की वकालत की.

भाजपा के चिन्तक हरेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय व्यक्तिवाद के विरोधी थे. उन्होंने मानव  की संपूर्णता पर विचार किया. पंडित जी ने साम्यवाद और पूँजीवाद का भी विकल्प दिया.

सेमिनार में उपस्थित प्रतिभागीगण

अध्यक्षीय भाषण देते हुए पटना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रासबिहारी प्रसाद सिंह ने कहा कि राष्ट्रवाद तभी मजबूत होगा जब व्यक्ति समुदाय और समाज मजबूत होगा. उन्होंने कहा कि पंडित जी सबको साथ लेकर चलने की वकालत की. लेकिन वे अपने मूल्य से सौदा करने के पक्षधर नहीं थे. उद्घाटन सत्र के प्रारंभ में सेमिनार के संयोजक डॉ. सुधाकर प्रसाद सिंह ने आगत अतिथियों का स्वागत किया. डॉ. ललित कुमार ने सेमिनार के विषय का प्रवेश कराया. समारोह को बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष अमरेन्द्र नारायण सिंह, शिक्षा संकाय के अध्यक्ष प्रो. खगेन्द्र कुमार, डॉ. जेस्सी एस मोदी, डॉ. वीणा प्रसाद और डॉ. कुमार संजीव ने संबोधित किया.




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *