भारतीय राजनीति के ‘अटल युग’ का अंत

82

नई दिल्ली । पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का निधन आज शाम 5.05 मिनट पर हो गया. वे 93 साल के थे. अटल जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे. वाजपेयी को सांस लेने में परेशानी, यूरीन व किडनी में संक्रमण होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था. 15 अगस्‍त को उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्‍हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया. एम्‍स से उनका पार्थिव शरीर उनके निवास कृष्‍ण मेनन मार्ग पर लाया गया. शुक्रवार को अंतिम दर्शन के लिए उनके पार्थिव शरीर को भाजपा मुख्‍यालय पर लाया जाएगा. उनके निधन देश का राजनितिक महकमा मर्माहत है. पूरा देश शोक में डूब गया है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनके निधन पर उन्हें भाव भिनी श्रद्धांजलि दी. बिहार भाजपा शिक्षक प्रकोष्ठ के संयोजक डॉ. सुधाकर प्रसाद सिंह ने वाजपेयी जी के निधन को अपूरणीय क्षति बताया साथ ही उन्होंने कहा कि देश में आज राजनीति के अटल युग का अंत हो गया. प्रकोष्ठ के प्रवक्ता डॉ. कुमार संजीव ने उनके निधन को भारतीय राजनीति के अजातशत्रु का देहावसान करा दिया और अश्रुपूरित श्रद्धांजलि दी.




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *