आई सी टी आधारित तकनीक अपनाएं शिक्षक: प्रो. डॉली सिन्हा

103

पटना I पटना विश्वविद्यालय की प्रति-कुलपति प्रो. डॉली सिन्हा ने कहा है कि शिक्षक को समय का पाबंद और मानवीय होना जरुरी है. तभी वह अपने कर्तव्यों का निर्वहन समय से कर सकता है. वह समय पर गुणवत्तापूर्ण पढाई कर सकता है. इसके लिए वे सूचना और तकनीकी का उपयोग, ई-कंटेंट का विकास स्वयं करें. साथ ही कोर्स कार्यक्रम परिणाम का भी सतत एवं व्यापक मूल्यांकन करें. प्रो. सिन्हा आज पटना विश्वविद्यालय के यूजीसी ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट सेंटर द्वारा पटना कॉलेज सभागार में आयोजित 79 वें ओरिएंटेशन कोर्स का उद्घाटन कर रही थीं. यह कोर्स 28 दिनों तक चलेगा.उन्होंने कहा कि शिक्षक बदलाव का जरिया होते हैं इस लिए प्रथम पुश्त के छात्र-छात्राओं के शिक्ष्ण-अधिगम के क्रम में उन्हें उनके वैयक्तिक विकास, मनोवैज्ञानिक काउंसलिंग और मानसिक सहारा देने जैसी मूलभूत चीजों पर भी ध्यान देना चाहिए.
इससे पहले यूजीसी ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट सेंटर के डायरेक्टर प्रो. चन्द्रमा सिंह ने आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि शिक्षा जीवन कि शुरुआत के लिए जरुरी भर नहीं बल्कि जीवन ही शिक्षा है. पटना कॉलेज के प्राचार्य प्रो. एजाज अली अरशद ने कहा कि ओरिएंटेशन कोर्स के दौरान प्रतिभागियों के बीच इंटरेक्शन होता है. एक दूसरे को जानने का मौका मिलता है. ये शिक्षक समुदाय के विकास के लिए अति आवश्यक है.
प्रो चन्द्रमा सिंह




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *